Biography of Manika Batra in Hindi - Hindi Haat

Header Ads

Biography of Manika Batra in Hindi

टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा की जीवनी  

         manika batra Asian gamesमनिका बत्रा भारत की शीर्ष महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं। मनिका बत्रा ने राष्ट्रमंडल खेल 2018 में इतिहास रचते हुए महिला सिंगल्स के फाइनल में सिंगापुर की मियांग यू को हराकर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया है। इन खेलों में यह मनिका का तीसरा पदक और दूसरा स्वर्ण पदक है। मनिका ने अपनी साथी खिलाड़ी मौमा दास और मधुरिका पाटकर के साथ मिलकर पहली बार राष्ट्रमंडल खेल में टेबल टेनिस में महिला टीम का गोल्ड मैडल जीता है। महिला डबल्स में मनिका बत्रा और मौमा दास की जोड़ी ने रजत पदक जीता है।  आइए जानते हैं मनिका से जुड़ी ऐसी बातें जो आपने अब तक नहीं पढ़ी होंगी। 




Family life of Manika Batra मनिका बत्रा का परिवार 

       मनिका बत्रा का जन्मदिन 15 जून को आता है। इसी दिन 1995 में दिल्ली में उनका जन्म हुआ था। मनिका बत्रा के पिता का नाम गिरीश बत्रा और उनकी मां का नाम सुषमा बत्रा है। दिल्ली के नरैना विहार की निवासी मनिका तीन भाई बहनों में सबसे छोटी है। उनकी बड़ी बहन आंचल और बड़ा भाई साहिल दोनों टेबल टेनिस खेलते थे। बहन से प्रेरित होकर मनिका ने 4 वर्ष की उम्र में ही टेबल टेनिस खेलना शुरू कर दिया था। राज्य स्तर पर अंडर-8 प्रतियोगिता में जीत हासिल करने के बाद मनिका ने कोच संदीप गुप्ता से ट्रेनिंग लेना शुरू किया। 

मनिका बत्रा का जीवन परिचय 



नाम मनिका बत्रा
निकनेम मन्ना
जन्मतिथि 15 जून, 1995
जन्म स्थान दिल्ली
लम्बाई 183 सेमी
वजन 66 किलोग्राम
स्पोर्ट्स हीरो टेबल टेनिस खिलाड़ी झांग जिके (चीन), सचिन तेंदुलकर,
मारिया शारापोवा (टेनिस)
पसंदीदा अभिनेत्री आलिया भट्ट
पसंदीदा फिल्म द बिग बैंग थ्योरी

मनिका ने टीटी के लिए ठुकराए मॉडलिंग के ऑफर   


        मनिका बत्रा ने टेबल टेनिस के खेल को जारी रखने के लिए अपने जीवन में कई अवसरों को छोड़ा है। स्कूल के दिनों में मनिका ने टेबल टेनिस खेलने के लिए अपना पुराना स्कूल छोड़कर हंसराज मॉडल स्कूल में दाखिला लिया क्योंकि वहां टेबल टेनिस के खेल की अच्छी सुविधाएं उपलब्ध थीं। कॉलेज में पढ़ाई के दौरान मॉडलिंग के कई ऑफर मिले, जिनको उन्होंने टेबल टेनिस के खेल पर ध्यान देने की वजह से ठुकरा दिया। मनिका ने दिल्ली के जीसस एंड मेरी कॉलेज में बीए की पढ़ाई भी अधूरी छोड़ दी क्योंकि वे अपने खेल पर ही ध्यान देना चाहती थीं। 


Table Tennis Career of Manika Batra 

मनिका बत्रा का टेबल टेनिस करियर 

        मनिका ने वर्ष 2011 में 16 वर्ष की आयु में विश्व की नम्बर 6 खिलाड़ी जापान की कासुमी इशिकावा को हराकर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया। उन्होंने वर्ष 2011 में चिली ओपन में अंडर-21 वर्ग में रजत पदक हासिल किया। मनिका बत्रा वर्ष 2014 में हुए ग्लासगो राष्ट्रमंडल खेल में क्वार्टर फाइनल तक पहुंची थीं। इसी तरह वर्ष 2014 के एशियाई खेलों में भी वे क्वार्टर फाइनल तक पहुंची। वर्ष 2015 में कॉमनवेल्थ टेबल टेनिस प्रतियोगिता में मनिका ने अंकिता दास और मौमा दास के साथ महिलाओं की टीम स्पर्धा का रजत पदक, अंकिता दास के साथ महिलाओं का डबल्स और महिलाओं के सिंगल्स में कांस्य पदक जीता। 


यह भी पढ़ें:
       मनिका बत्रा ने वर्ष 2016 के दक्षिण एशियाई खेलों में पूजा सहस्रबुद्धे के साथ महिला डबल्स, एंथोनी अमलराज के साथ मिक्स्ड डबल्स और मौमा दास एवं शामिनी कुमारेसन के साथ महिला टीम इवेंट का गोल्ड मेडल जीता। हालांकि वर्ष 2016 के रियो ओलम्पिक खेलों में उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा और उन्हें पहले ही दौर में पोलैंड की कतारज्ना ग्रिजबोव्स्का से हार का सामना करना पड़ा। हालांकि, अपने नाखूनों को तिरंगे रंग में पेंट करने के कारण मनिका ने रियो ओलम्पिक्स में काफी सुर्खियां बटोरीं।


गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों का स्वर्ण पदक  

        मनिका बत्रा ने अपनी साथी खिलाड़ियों मौमा दास और मधुरिका पाटकर के साथ मिलकर वर्ष 2018 के गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में पिछली बार के चैम्पियन और चार बार के गोल्ड मेडलिस्ट सिंगापुर को हराया। सिंगापुर की टीम को वर्ष 2002 में इस खेल के राष्ट्रमंडल खेलों में शामिल होने के बाद से कभी भी हार का सामना नहीं करना पड़ा था। मनिका बत्रा ने गोल्ड कोस्ट में फाइनल मुकाबलों में विश्व की नम्बर चार खिलाड़ी फेंग तिआनवेई और यिहान झोउ को हराकर भारत की 3-1 से जीत सुनिश्चित की। गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में धमाकेदार प्रदर्शन जारी रखते हुए मनिका बत्रा ने महिला सिंगल्स के फाइनल में सिंगापुर की मियांग यू को 11-7, 11-6, 11-2 और 11-7 के अंतर से हराकर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया है। 

Aim of Manika Batra 

मनिका बत्रा का लक्ष्य

        मनिका एकाग्रता बढ़ाने के लिए रोजाना दो-तीन घंटे मेडिटेशन करती हैं। मनिका का लक्ष्य वर्ष 2020 में आयोजित होने वाले टोक्यो ओलम्पिक खेलों में भारत के लिए पदक जीतना है। टेबल टेनिस के खेल को लेकर मनिका का लगाव इस कदर है कि उन्होंने अपने गले में पेंडेंट भी टेबल टेनिस रैकेट के आकार का ही पहना है।
यह भी पढ़ें:
मिताली राज की जीवनी

No comments

Theme images by cobalt. Powered by Blogger.